PNB 'महाघोटाला': सिर्फ निवेशक ही नहीं, आम खाताधारक के भी डूबे पैसे, समझिए कैसे!

पीएनबी में हुए घोटाले के चलते शेयर बाजार में भी डर का माहौल है. बैंकिंग सेक्टर बुरी तरह टूटा हुआ है. खासकर पीएनबी के शेयर में जडबरदस्त गिरावट देखने को मिल रही है. पिछले तीन दिन के कारोबार में पीएनबी का शेयर 24 फीसदी तक टूट चुका है. लगातार तीन दिन की गिरावट से निवेशकों के करोड़ों स्वाहा हो गए हैं. निवेशकों के पैसे डूबने से पीएनबी का मार्केट कैप भी 30 हजार करोड़ रुपए के नीचे पहुंच गया है. वहीं एक अनुमान के मुताबिक बैंक के आम खाताधारक को भी बैंक में जमा उसके 100 रुपये में 30 रुपए का नुकसान झेलना पड़ेगा.

तीन दिन में 9246 करोड़ रुपए स्वाहा
पीएनबी के शेयर में पिछले तीन दिनों में गिरावट देखने को मिली है. तीन दिनों में शेयर में 23.60 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई. लगातार तीसरे दिन स्टॉक में गिरावट से पीएनबी में निवेशकों के करीब 9246.19 करोड़ रुपए डूब गए हैं.

बैंक से आम आदमी का पैसा साफ?
किसी भी बैंक के पास दो जरिए से पैसों का आता और जाता है. एक रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया और दूसरा बैंक के ग्राहक जो अपना पैसा ब्याज के लिए अपने खाते में जमा कराते हैं. हालांकि, इसके अलावा कॉरपोरेट जगत से शेयर होल्डर का पैसा भी बैंक में जमा रहता है. बैंक को फर्जी ट्रांजैक्शन से 11,360 करोड़ रुपए की चपत लगी है. लिहाजा इतना पैसा शेयर होल्डर की तरफ से जमा नहीं कराया गया है. रिजर्व बैंक की तरफ से भी कैश रिजर्व रेशियो को बनाए रखने के लिए बैंक को इतनी रकम नहीं दी गई है. लिहाजा, महाघोटाले में अगर किसी का पैसा गया है तो वह बैंक में जमा लाखों खाताधारकों का पैसा है.

हर 100 में से 30 रुपए साफ
अगर बैंक में हुए महाघोटाले को किसी फर्जी ट्रांजैक्शन मान लिया जाए तो साफ है कि बैंक के पास इस होने वाले ट्रांजैक्शन की कोई सूचना नहीं है. लिहाजा बैंक को यह भी नहीं पता कि ट्रांजैक्शन के जरिए पैसा कहां ट्रांसफर किया गया है. अब अगर बैंक को जानकारी नहीं है तो यह संभावना काफी कम है कि इस ट्रांजैक्शन में गंवाया गया पैसा वापस मिलेगा. बैंक को कुल मार्केट कैप में एक तिहाई का नुकसान हो चुका है तो साफ है कि इसकी भरपाई ग्राहकों के पैसे से की जाएगी. ऐसी स्थिति में बैंक में यदि किसी ग्राहक का 100 रुपए जमा है तो उसके 30 रुपए इस फर्जीवाड़े में साफ हो सकते हैं.

कैसे घटा पीएनबी का मार्केट कैप?

  • 12 फरवरी- 39178.17 करोड़ रुपए
  • 14 फरवरी- 35336.70 करोड़ रुपए
  • 15 फरवरी- 31107.44 करोड़ रुपए
  • 16 फरवरी- 29931.98 करोड़ रुपए

Comment